Chandrayaan 2 - 15 जुलाई को भारत रचने वाला है इतिहास, जानिए भारत कौन-कौन सा गौरव हासिल करेगा ?

Chandrayaan 2 दुनिया देखेगी जब भारत रचेगा इतिहास 


दोस्तो आपको 22 अक्टूबर 2008 का दिन तो याद होगा ही अगर नहि है तो हम आपको याद दिला दें, की इस दिन भारत ने अपना chandrayaan 1 मिशन चाँद पर भेजा था।



 जो इतना सफल रहा था की जो दुनिया नहीं कर पाई थी उसे हमारे चंद्रयान ने कर दिखाया था। 
जी हाँ चंद्रमा के सतह पर पानी की खोज कर भारत के चंद्रयान ने पूरी दुनिया को यह भटया था की भारत अन्तरिक्ष का बादशाह है।

11 साल बाद chandrayaan 2 लांच करने के लिए तैयार है भारत-


  • जब भारत का चंद्रयान सफल रहा तो भारत के बिज्ञानिको ने चंद्रयान 2 की तैयारी शुरू कर दी थी , जिसमें 11 साल लग गए और अब चंद्रयान 2 पूरी तरह से तैयार है चाँद पर जाने के लिए तो आइये जान लेते है की भारत के इस दूसरे chandrayaan मिशन मे क्या-क्या खास है।                                                                                                                                      
                                                                                       
  • आपको बता दें की इसरो 15 जुलाई को 2:15 मिनट पर chandrayaan 2 का लांच करेगी। भारत पहली बार चंद्रमा के सतह पर लेंडर और रोवर उतरेगा यह चंद्रमा के विकिरण वातावरण और तापमान की study करेगा।                                                                                          
  • चंद्रयान 2 का ओर्विटर चंद्रमा की सतह से 100 किलोमीटर ऊपर लेंडर और रोवर से जानकारी लेकर इसरो के कमांड सेंटर तक पहुंचाएगा।                                                                
  • ओर्विटर में 8 पेलोड है इसके अलावा कमांड सेंटर से भेजे गए कमांड भी ओर्विटर लेंडर और रोवर तक पहुंचाएगा।                                                                                                                    
  • इसे हिंदुस्तान ऐरोनोटिक्स लिमिटेड (HAL)  ने बनाकर 2015 में ही इसरो को दे दिया था।      
  • इस मिशन को पूरा करते ही भारत दुनिया का चौथा देश बन जाएगा जिंसने चंद्रमा की सतह पर लेंडिंग की है।                                                                                            
  • हम आपको बता दें की चंद्रमा से जमीन तक डाटा आने में सिर्फ 15 मिनट का समय लगेगा। चंद्रयान मे भेजे जा रहे लेंडर का नाम इसरो के संस्थापक बिक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया है।                                                                                                                                               
       
                   
  • चंद्रयान 2 मिशन के वो 15 मिनट सबसे अहम होंगे जिसमें लेंडर को चंद्रमा की सतह पर उतारा जाएगा। क्योंकि इसरो के द्वारा ऐसा पहले कभी नहीं किया गया है।                                                    
  • चंद्रयान 2 मिशन मे 1000 करोड़ रुपये का खर्च आएगा जिसमें जीएसएलवी का खर्चा 375 करोड़ रुपये है।                                                                                                                                                                        
तो दोस्तो ये है कुछ चंद्रयान 2 मिशन से जुड़ी जानकारी अगर आपको और जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट कर जरूर बताए। और कमेंट मे जय हिन्द लिखना न भूलें।                                         
अगर जानकारी पसंद है और आप इसरो की इस कामयाबी से खुश है तो शेयर जरूर करें।
अगला पोस्ट >
Next Post »

Followers